New Hindi Stories for Kids | बच्चों की कहानियाँ

Hindi Stories for Kids की इस वेबसाइट पर हम बच्चो के लिए लेके आते मजेदार कहनियाँ और रोचक किस्से , Hindi Stories for Kids मदद करती बच्चो की पड़ने की आदत बनाने मे ,और साथ साथ हर कहानी में होता है moral ,जिससे बच्चो को सीख मिलती है। Hindi Stories for Kids की हर Hindi Story New होती है , कही से भी कॉपी नहीं की जाती।

Story In Hindi For Child| हिंदी कहानियां

hindi stories for kids
hindi stories for kids

Hindi Stories for Kids लेके आयी है कुछ interesting stories जिससे बच्चो को काफी कुछ सिखने को मिलेगा ,साथ में हम कठिन शब्द का मतलब भी समझायेंगे।

1. ये पढ़ाई किसी काम की नहीं ( This Study Is Of NO Use )

एक गांव में जेठालाल नाम का एक बच्चा रहता था ,वो 8th क्लास में पड़ता था, जेठालाल पढ़ाई में इतना होशियार नहीं था पर वो हमेसा मेहनत करता ताकि वो पढ़ाई में अच्छा कर सके।

एक बार की बात है ,जेठालाल अपने स्कूल से घर जा रहा था ,रास्ते में उसने एक भिखारी (beggar) को देखा वो सबसे भीख मांग रहा था ,” अल्लाह के नाम पे देदे बाबा “,पर जब वहाँ से विदेशी निकले तो भिखारी ने उनसे इंग्लिश में बात की ,यह देखके जेठालाल हैरान हो गया।

वह भिखारी के पास गया और उनसे पुछा की वह इतना पड़ा लिखा होके भी भीख क्यों मांग रहे है ,भिखारी ने कहा ” ये पढ़ाई किसी काम की नहीं है सब किस्मत का खेल है “,यह सुनने के बाद जेठालाल वहा से चला गया।

घर जाके जेठालाल गुस्से में बोला ” मुझे अब नहीं पड़ना , क्यूंकि अगर किस्मत ख़राब है तो वैसे भी मुझे भीख ही मांगनी पड़ेगी “,ये सुनते ही पिताजी ने सोचा की जेठालाल को पढ़ाई का महत्व (Importance) बताना पड़ेगा ,पिताजी ने एक हल (Solution) निकला।

पिताजी की सीख…

This image has an empty alt attribute; its file name is father-son-walking-road.jpg
Hindi stories for kids

अगले दिन जेठालाल ने पिताजी से चॉकलेट के लिए 10 रुपए मांगे ,पिताजी ने उसे 5 रुपए का नोट दिया ,जेठालाल ने कहा “यह तो 5 रुपए है”,पिताजी ने कहा ” अगर तुम गणित (Maths) नहीं पढ़ते तो यह नहीं जान पाते कि ये कितने रुपए है और ऐसे अगर तुम अंग्रेजी (English) नहीं पढ़ते तो चॉकलेट को मौकलेट कहते।

पिताजी ने कहा ” छोटी से बड़ी हर जगह में पढ़ाई का इस्तेमाल होता है ,सिर्फ किस्मत के भरोसे बैठने से कुछ नहीं होता “, ये बात जेठालाल के मन में घर कर गयी ,उसे अपनी गलती का एहसास हुआ और उसने पढ़ाई में और मेहनत की।

Hindi Stories for Kids Moral (सीख ) :— जीवन में पढ़ाई बहुत जरुरी है ,और किस्मत भी उनका साथ देती है जो मेहनत करते है।

Hindi Stories for Kids New Words (नए शब्द) :— 1. घर कर गयी ( मुहावरा ) — किसी बात को बहुत पसंद करना।

2. सच्चा मित्र (True Friend )

एक बार की बात है , रमन और सुनील नाम के दो दोस्त एक साथ गांव में रहते थे ,वे दोनों बहुत पक्के दोस्त थे ,एक साथ स्कूल जाते थे ,एक साथ खेलते थे और एक साथ ही खाना खाया करते थे।

boys are sitting and reading hindi stories for kids
Hindi stories for kids

दोनों दोस्त एक दूसरे से थोड़ा अलग भी थे ,एक तरफ रमन एक बहुत अच्छा होनहार( excellent ) पड़ने वाला बच्चा था वही सुनील पढ़ाई में कमजोर था ,पर रमन को इस बात का कोई घमंड नहीं था वो सुनील की पढ़ाई में हमेशा मदद करता था . रमन का मदद करने का अंदाज़ कुछ अलग था ,वो न तो कभी सुनील का ग्रहकार्य (homework) करता और न ही उसको किसी चीज़ के उत्तर (Answer) कि नक़ल (cheating) कराता ,वो सिर्फ उसको अपने आप ही सवाल को हल (solve) करना सिखाता।

स्कूल में परीक्षा (exam) आने वाली थी एक तरफ रमन पढ़ाई लगा था तो दूसरी और सुनील को कोई परवा नहीं थी , परीक्षा पास में आ गयी तो सुनील ने रमन को परीक्षा में नक़ल करने को कहा पर रमन ने मना कर दिया इस बात से सुनील रमन से गुस्सा को आया गया और वो रमन से अलग हो गया ,रमन ने उसको समझाया पर सुनील नहीं माना।

फिर सुनील ने क्या किया? ……

सुनील ने गुस्से में यह ठान ली कि वो अब खुदकी मेहनत से अच्छे से अंक लायेगा ,सुनील ने दिन-रात मेहनत की और अगली परीक्षा में वो अच्छे अंक के साथ पास हुआ ,फिर वो रमन के पास गया और उसने खुद की वाहवाई की,फिर रमन ने उसे से समझाया कि अगर वो उसकी मदद पहले कर देता तो सुनील रमन के ही भरोसे रह जाता और आज सुनील आपने आप इतने अच्छे अंक कैसे लाता।

यह बात सुनके सुनील को अपनी गलती का एहसास हुआ और उसने रमन से माफ़ी भी मांगी ,और फिर दोनों में सच्ची मित्रता हो गयी।

Hindi Stories for Kids Moral (सीख ) :– सच्चा मित्र वही है जो अपने मित्र को मदद करे और सही राह दिखाए ,न की उसका गलत काम में साथ दे।

Hindi Stories for Kids New Words (नए शब्द):– 1. ठान लेना — पक्का इरादा करना ( To Make Resolve) 2. वाहवाई करना — तारीफ करना (To Praise)।

3 . छोटी मदद ( Little Help)

एक राज्य में महेंद्र नाम के राजा का शासन (Rule) हुआ करता था ,राजा महेंद्र बहुत शक्तिशाली एवं धनवान (Rich) राजा थे, कहा जाता था की उनके पास इतना धन था कि पूरे राज्य के हर नागरिक (Citizen) का उम्रभर का पालन पोषण कर सकते थे , इस बात के कारण उनके शत्रु (Enemy) उनसे जला करते थे।

to show the wealth of the king at hindi_stories_for_kids
hindi stories for kids

राजा महेंद्र का मानना था कि वे इस राज्य में किसी की भी मदद कर सकते थे और उन्हें किसी की मदद की जरुरत नहीं थी ।

एक बार की बात है , राजा ने अचानक से जंगल में शिकार की योजना (Plan) बनाई ,जब राजा जंगल में पहुंचे अचानक से शत्रुओं ने हमला कर दिया ,राजा जैसे तैसे अपनी जान बचा के भगा , राजा घायल हो चूका था ,प्यास और भूख से परेशान था ,जंगल में चलते -चलते उसे एक झोपडी (Hut) दिखायी दी।

उस झोपडी में श्यामदास नाम का एक बुजुर्ग (Old Person) रहता था ,राजा को घायल देख श्यामदास राजा को अपनी झोपडी में ले गया और वहां उसका उपचार (Treatment) किया ,उनको खाना दिया और जब तक उसकी सेना आ नहीं गयी राजा अपनी झोपडी में आराम करने दिया।

कुछ समय बाद राजा अपने राज्य लौट गए ,एक दिन उन्हें इन बुजुर्ग की याद आयी ,उन्होंने उनको बुलवाया ,और उनसे कहा की ,” श्यामदास जी अपने मेरी जो जान बचायी थी ,मैं उसका एहसान चुकाना चाहता हु ,मांगिये! , दुनिया में आपको जो चाहिए वो मिलेगा “.

श्यामदास का उत्तर …

श्यामदास ने कहा ” महाराज आप मेरी मदद का एहसान कैसे उतरेंगे ,मैने तो एक आम इंसान होके भी एक राजा की मदद की थी ,पर आप तो एक राजा है और आप अपने से छोटे से इंसान की मदद आसानी से कर सकते है ,आपकी मदद और मेरा एहसान बराबर कैसे हुआ ?….

राजा को अपनी गलती का एहसास हुआ कि वो उस बुजुर्ग की मदद का अपमान कर रहा है ,राजा ने माफ़ी मांगी और आगे से कभी भी अपने धनवान होने का घमंड न करने की कसम खायी।

Hindi Stories for Kids Moral (सीख ) :— जरुरी नहीं है की हमे किसी की मदद करने के लिए राजा जितना धनवान होना पड़े हम कभी भी किसी मदद कर सकते हैं।

Hindi Stories for Kids New Words (नए शब्द) :— 1.पालन पोषण करना :– देखभाल करना (Upbringing)

4 . बात मान लेनी चाहिए

एक बार की बात है एक शहर में चिंटू नाम का एक बच्चा रहता था ,वो 8th क्लास में पड़ता था ,चिंटू बड़ा ही शैतान बच्चा था ,उसके माता पिता जो भी उसको समझाते वो बस ये कहता “मैं अब बड़ा हो चुका हूँ , मैं अपना ध्यान खुद रख सकता हूँ”।

hindi stories for kids
parents and kids

चिंटू की एक आदत बड़ी परेशान करने वाली थी ,वो अनजान (Stranger) लोगो से जल्दी घुल मिल जाता था ,उसके माता पिता जानते थे ,ये बात सही नहीं है , पर वो करते भी क्या ,चिंटू उनकी बात सुनता ही नहीं था।

एक बार की बात है इस आदत पर एक चोर का ध्यान चला गया ,एक बार जब चिंटू ,स्कूल से जा रहा था ,तभी वो चोर चिंटू के पास आया और बड़े प्यार से बोला ,” अरे ! राहुल कहा जा रहे हो?”, चिंटू बोला “मेरा नाम राहुल नहीं चिंटू है”|

फिर चोर ने कहा ” अरे तुम वही हो न जो सुरेश कॉलोनी में रहते हो ?”,” जी नहीं मैं तो रमेश कॉलोनी ,फ्लैट 2 में रहता हूँ”, चिंटू ने कहा ,

फिर चोर ने बहाना बनाया ” अरे नहीं तुम राहुल ही हो ,तुम्हारे हाथ पर तिल का निशान है ” ,” चिंटू ने फिर कहा ” अरे नहीं भाई मेरे तो पैर पर निशान है “

चोर ने फिर पुछा ” क्या तुम्हारे पिता का नाम संतोष और माता का नाम मीना नहीं है ?, और क्या तुम्हारे पिता और माता टीचर नहीं है ?”

चिंटू ने तंग आके चिल्ला के कहा ” अरे भाई बोला न, नहीं मेरे पिता का नाम राजू है और माता का नाम रीमा है ,मेरे पिता का शोरूम है वो दिन भर उधर रहते है और माता घर पर रहती है अकेली “

चोर ने सारी जानकारी ले ली थी उसका काम हो गया था ,फिर उसने चिंटू को सॉरी कहा और वो वहा से निकल गया। Hindi Stories for Kids

फिर एक दिन वो चिंटू के घर गया और उसकी माँ अकेली थी ,वहां जाके उनकी माँ को यकीन दिला दिया कि वो चिंटू को अच्छे से जनता है ,और उसकी माँ से कहा ” आंटीजी ,मुझे अभी अपनी फीस के लिए पैसो की जरुरत है ,प्लीज मुझे दे दीजिये में ,चिंटू को कल लौटा दूंगा।

जैसे तैसे उसने पैसे ले लिए और वहां से निकल आया ,बाद में जब चिंटू स्कूल से आया तब पता चला की वो चोर था , तब जाके चिंटू को अपनी गलती का एहसास हुआ। फिर चिंटू ने कसम खायी की वो सदा अपने माता पिता की बात मानेगा।

Hindi Stories for Kids Moral (सीख ) :— कभी भी किसी अनजान को अपनी जानकारी नहीं देनी चाहिए और माता पिता जो सीखते है वो सीखना चाहिए।

Hindi Stories for Kids New Words (नए शब्द) :— 1 . घुलना-मिलना — किसी के साथ जल्दी मिल जाना (SOCIALIZE)

दुकान के सफाई वाले से अरबपति तक की कहानी जरूर पढ़िए Motivational Stories in hindi

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *